चातुर्मास्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

12 जुलाई 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (414 बार पढ़ा जा चुका है)

चातुर्मास्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में समय-समय पर विभिन्न व्रत उपवास एवं त्योहारों का पर्व मनाने की परंपरा रही है | प्रत्येक व्रत / पर्व के पीछे एक वैज्ञानिक मान्यता सनातन धर्म में देखने को मिलती है | आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी जिसे पद्मा एकादशी के नाम से जाना जाता है | इसका बहुत ही महत्त्व है क्योंकि आज के ही दिन चार महीनों के लिए भगवान श्री हरि विष्णु निद्रा मग्न हो जाते हैं | आने वाले ४ महीने अर्थात आषाढ़ शुक्ल एकादशी से कार्तिक शुक्ल एकादशी तक भगवान श्री हरि विष्णु निद्रा में होते हैं | इन ४ महीने को चतुर्मास्य की संज्ञा दी गई है | पौराणिक कथाओं के अनुसार जब भगवान बामन ने राजा बलि को पाताल लोक का राज दे दिया तो राजा बलि ने भगवान से वरदान मांगा किववह हमको पाताल के राजभवन के दरवाजे पर दर्शन देते रहें | इस प्रकार राजा बलि के महल के बावन दरवाजों पर भगवान पहरेदार बनकर खड़े रहे | माता लक्ष्मी की कृपा से भगवान को इस पहरेदारी से मुक्ति मिली , परंतु बैकुंठ जाते समय उन्होंने बली को पुनः वरदान दिया आषाढ़ शुक्ल एकादशी से कार्तिक शुक्ल एकादशी तक वे पाताल में निवास करेंगे | जब भगवान का पाताल गमन होता है तो पृथ्वी पर उनको निद्रा मग्न माना जाता है और बड़े विधि विधान से उनकी पूजा की जाती है | स्कंदपुराण एवं पद्मपुराण में चातुर्मास की बहुत विस्तृत महिमा का वर्णन किया गया है | आज के दिन को "हरिशयनी एकादशी" के नाम से जाना जाता है |

आज प्रातः काल भगवान श्री हरि विष्णु का पूजन करके उनको शयन करा दिया जाता है जो पुनः कार्तिक शुक्ल एकादशी जिसे "हरि प्रबोधिनी" या "देवोत्थानी एकादशी" के नाम से जाना जाता है उस दिन भगवान पुनः निद्रा का त्याग करके संसार का पालन करना प्रारंभ कर देते हैं | इन चार महीनों में भगवान श्री हरि विष्णु का कार्यभार भूत भावन भोलेनाथ के हाथों में होता है |* *आज से पवित्र चातुर्मास का प्रारंभ हो जाएगा | शास्त्रानुसार चातुर्मास एवं चौमासे के दिनों में देवकार्य अधिक होते हैं जबकि हिन्दुओं के विवाह आदि उत्सव नहीं किए जाते | इन दिनों में मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा दिवस तो मनाए जाते हैं परंतु नवमूर्ति प्राण प्रतिष्ठा व नवनिर्माण आदि के कार्य नहीं किए जाते | जबकि धार्मिक अनुष्ठान, श्रीमदभागवत ज्ञान यज्ञ, श्री रामायण और श्रीमदभगवदगीता का पाठ, हवन यज्ञ आदि कार्य अधिक होते हैं | गायत्री मंत्र के पुरश्चरण व सभी व्रत सावन मास में सम्पन्न किए जाते हैं |

सावन के महीने में मंदिरों में कीर्तन, भजन, जागरण आदि कार्यक्रम अधिक होते हैं | स्कन्दपुराण के अनुसार संसार में मनुष्य जन्म और विष्णु भक्ति दोनों ही दुर्लभ हैं परंतु चार्तुमास में भगवान विष्णु का व्रत करने वाला मनुष्य ही उत्तम एवं श्रेष्ठ माना गया है | चौमासे के इन चार मासों में सभी तीर्थ, दान, पुण्य, और देव स्थान भगवान विष्णु जी की शरण लेकर स्थित होते हैं तथा चातुर्मास में भगवान विष्णु को नियम से प्रणाम करने वाले का जीवन भी शुभफलदायक बन जाता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना ही कहना चाहूंगा कि पूजा पाठ , व्रत आदि का जो फल चातुर्मास्य में मिल जाता है वह अन्य महीनों में नहीं प्राप्त होता | अत: इस चातुर्मास में प्रत्येक मनुष्य को अपनी सामर्थ के अनुसार नित्य भगवान का स्मरण कीर्तन भजन एवं यथाशक्ति दान पुण्य तथा तीर्थ स्नान का लाभ अवश्य लेना चाहिए |

भगवान विष्णु को समर्पित यह चार माह उनकी पूजा का विशेष फल प्रदान करने वाला होता है | साथ ही भगवान शिव संसार के पालन करने की जिम्मेदारी का निर्वहन करते हैं इसलिए भक्तों के द्वारा सुदूर क्षेत्रों से गंगाजी से जल लाकरके उनको अर्पित करके मनाने का प्रयास किया जाता है | इन विशेष ४ महीनों की महिमा जितनी भी कही जाए उतनी कम है इन पवित्र ४ महीनों में मनुष्य को सकारात्मकता के साथ सत्कर्म करते रहना चाहिए |* *सनातन धर्म के प्रत्येक विधान में वैज्ञानिकता के भी दर्शन होते हैं | इन ४ महीनों में में बरसात के कारण उत्पन्न होने वाले अनेक रोगों से बचने के लिए व्रत का विधान सर्वोपरि है |*

अगला लेख: दृढ़ संकल्प :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जुलाई 2019
दृढ़ संकल्प इस धरा धाम पर मानवयोनि में जन्म लेने के बाद मनुष्य जीवन में अनेकों कार्य संपन्न करना चाहता , इसके लिए मनुष्य कार्य को प्रारंभ भी करता है परंतु अपने लक्ष्य तक कुछ ही लोग पहुंच पाते हैं | इसका कारण मनुष्य में अदम्य उत्साह एवं अपने कार्य के प्रति निरंतरता तथा सतत प्रयास का अभाव होना ही कहा
12 जुलाई 2019
28 जून 2019
संसार में कर्म ही प्रधान कर्मानुसार ही मनुष्य को सुख - दुख , मृत्यु - मोक्ष आदि प्राप्त होते हैं | कर्म की प्रधानता यहाँ तक है कि जीव को अगला जन्म किस योनि में लेना है यह भी उसके कर्म ही निर्धारित करते हैं | यद्यपि सभी जीवों को अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है परंतु इन सबसे ऊपर एक परमसत्ता है द
28 जून 2019
06 जुलाई 2019
*मनुष्य अपने जीवनकाल में सदैव उन्नति ही करना चाहता है परंतु सभी इसमें सफल नहीं हो पाते हैं | मनुष्य के किसी भी क्षेत्र में सफल या असफल होने में उसकी संगति महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है | इस संसार में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग रहते हैं इसमें से कुछ सद्प्रवृत्ति के होते हैं तो कुछ दुष्प्रवृत्ति के | जह
06 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
23 जुलाई 2019
भगवान श्री शिवशंकर की अराधना में महामृत्युंजय जाप एककाफी पवित्र मंत्र माना जाता है जिसे हमारे बुजुर्गों द्वारा प्राण रक्षक मंत्रकहा जाता है। इस मंत्र की उत्पत्ति सबसे पहले महाऋषि मार्कंडय जी ने की। Mahmrityunjay Mantra का जाप करनेसे शिव जी को प्रसन्न करने की शक्ति मिलती है। Mahamrityunjay Mantra in
23 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
हिन्दुओं की आस्था का एक केन्द्र भगवान जगन्नाथ की जगन्नाथ पुरी है। 10वीं शताब्दी में निर्मित यह प्राचीन मन्दिर सप्त पुरियों में से एक है। आज इस लेख में हम आपको जगन्नाथ पुरी मंदिर से जुड़े रोचक और अद्भुत तथ्यों के बारे में बता रहे है।1. पुरी की सबसे खास बात तो स्वयं भगवान जग
04 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
हिंदू धर्म में करोड़ों देवी-देवता हैं लेकिन कुछ को सर्वोच्च माना जाता है। जैसे देवों में देव महादेव शंकर भगवान होते हैं वैसे ही सभी देवियों में दुर्गा मां को उच्च स्थान दिया गया है। सीता, पार्वती, लक्ष्मी, काली सभी इन्ही के अवतार हैं और इन्हें हिंदू धर्म में सर्वोच्च भगवान माना जाता है जिनके आगे ईश्
26 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
जगन्नाथ जी की रथ यात्रा *सनातन धर्म की व्यापकता का दर्शन हमारी मान्यताओं / पर्वों एवं त्यौहारों में किया जा सकता है | सनातन धर्म ने सदैव मानव मात्र को एक सूत्र में बाँधकर रखने के उद्देश्य से समय समय पर पर्व एवं त्यौहारों का विधान बनाया है | हमारे देश में होली , दीवाली, रक्षाबन्धन , जन्माष्टमी , श्र
04 जुलाई 2019
17 जुलाई 2019
*सनातन धर्म दिव्य एवं स्वयं में वैज्ञानिकता को आत्मसात किये हुए है | सनातन के प्रत्येक व्रत - त्यौहार स्वयं में विशिष्ट हैं | इसी कड़ी में सावन महीने का विशेष महत्व है | सनातन धर्म में वर्ष भर व्रत आते रहते हैं और लोग इनका पालन भी करते हैं , परंतु जिस प्रकार सभी संक्रांतियों में मकर संक्रान्ति , सभी
17 जुलाई 2019
06 जुलाई 2019
*सनातन धर्म में चौरासी लाख योनियों का वर्णन मिलता है | देव , दानव , मानव , प्रेत , पितर , गन्धर्व , यक्ष , किन्नर , नाग आदि के अतिरिक्त भी जलचर , थलचर , नभचर आदि का वर्णन मिलता है | हमारे इतिहास - पुराणों में स्थान - स्थान पर इनका विस्तृत वर्णन भी है | आदिकाल से ही सनातन के अनुयायिओं के साथ ही सनातन
06 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
*आदिकाल से मनुष्य का सम्बन्ध प्रकृति एवं पर्यावरण से रहा है | घने जंगलों में प्रकृति की गोद में ही बैठकर ऋषियों ने तपस्या करके लोककल्याणक वरदान प्राप्त किये तो इसी प्रकृति की गोद में बैठकर हमारे पूर्वज महापुरुषों ने मनुष्य को सरल एवं सुगम जीवन जीने का मार्ग प्रशस्त करने वाले ग्रंथों की रचना की | प्र
26 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x