सम्पूर्ण सृष्टि ही भगवामय है :- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 जनवरी 2021   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (415 बार पढ़ा जा चुका है)

सम्पूर्ण सृष्टि ही भगवामय है :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सृष्टि के आदिकाल से ही इस धराधाम पर सनातन धर्म की नींव पड़ी | तब से लेकर आज तक अनेकों धर्म , पंथ , सम्प्रदाय जो भी स्थापित हुए सबका मूल सनातन ही है | जहाँ अनेकों सम्प्रदाय समय समय बिखरते एवं मिट्टी में मिलते देखे गये हैं वहीं सनातन आज भी सबका मार्गदर्शन करता दिखाई पड़ता है | सनातन धर्म अक्षुण्ण इसलिए है क्योंकि इसकी प्रत्येक मान्यता प्पकृति से जुड़ी हुई है | जहाँ अन्य धर्मों ने अपनी मनमानी मान्यतायें स्थापित कीं वहीं सनातन ने प्रकृति से ही जुड़कर मान्यताओं की स्थापना की है | इन्हीं मान्यताओं में एक है सनातन का सम्माननीय भगवा रंग | प्राय: लोग प्रश्न कर देते हैं कि सनातन में भगवा रंग महत्तवपूर्ण क्यों है ? उन सभी को सनातन पर यह प्रश्न उठाने से पहले सम्पूर्ण सृष्टि को ध्यान से देखना चाहिए | यदि सृष्टि का सूक्ष्मावलोकन किया जाय तो सम्पूर्ण सृष्टि ही भगवा रंग की है | यदि न समझ में आये तो ऐसे सभी लोगों का मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ध्यानाकर्षण कराते हुए बताना चाहता हूँ कि विचार कीजिए कि इस सृष्टि को ऊर्जा कहाँ से प्राप्त होती है ? इस सम्पूर्ण सृष्टि को ऊर्जा प्रदान करने वाला है सूर्य , सम्पूर्ण सृष्टि सूर्य से ही पोषण प्राप्त करती है | यदि सूर्य गतिमान न हो तो सृष्टि भी गतिमान नहीं हो सकती | सूर्य का तत्व है अग्नि , अग्नि के भी दो गुण होते हैं :- प्रकाशकता एवं दाहकता , और उसका भी रंग है भगवा एवं केसरिया | संसार को सूर्य की प्रकाशकता दृष्टव्य बनाती है और सम्पूर्ण संसार को उसकी दाहकता भस्म भी कर सकती है | सूर्य ही जीवन दायक है और उसका रंग भगवा एवं उसके तत्व अग्नि का रंग केसरिया है | जिस प्रकार बिना सूर्य के जीवन की संकल्पना ही नहीं की जा सकती उसी प्रकार इस पृथ्वी पर बिना सनातन के संस्कृतियों का संरक्षण भी असम्भव है | प्रकृति के इसी रहस्य को समझते हुए सनातन का सम्माननीय वस्त्र एवं रंग है भगवा |*



*आज जिस प्रकार सम्पूर्ण संसार में ओछी राजनीति का प्रचार हो रहा है तथा कुछ लोग निजी स्वार्थसिद्धि के लिए सनातन की मान्यताओं का दुष्प्रचार करते हुए भगवा रंग को एक धर्म का प्रतीक बताते हुए भारत का भगवाकरण करने का आरोप लगा रहे हैं वे सभी लोग या तो सृष्टि एवं प्रकृति के रहस्य को ही नहीं समझ पाये हैं या फिर समझते हुए भी समझना नहीं चाहते हैं | सनातन धर्म सृष्टि के आदिकाल से भगवामय है और रहेगा क्योंकि जब यह सृष्टि ही भगवामय है तो हम सृष्टि के बाहर भला कैसे जा सकते हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" सनातन की दिव्य मान्यता का पोषक हूँ क्योंकि हमारी दिव्य मान्यता रही है कि जब हम संसार से परांगमुख होते हैं अर्थात सांसारिकता को होम कर देते हैं , संयासी होते हैं तो अग्निरूप केसरिया धारण करते हैं और जब देह त्याग करते हैं अग्निरूप केसरिया का आलिंगन करते हुए यह नश्वर शरीर उसी को समर्पित कर देते हैं | जब एक सैनिक वीरगति को प्राप्त होता है तो वह भी केसरिया बाना धारण करता है | कल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि भगवा प्रकाश (सूर्य) ही हमारा (सृष्टि का) जीवन है और भगवा अग्नि ही हमारा अंतिम आश्रय | सूर्य का तत्व कही जाने वाली अग्नि ही सृष्चि का मूल है और अग्नि ही सृष्टि का समापन | भगवा का इतिहास सृष्टि के आदिकाल से है , सृष्टि के कण कण में भगवा विद्यमान है इसे धारण करने से कोई भी न तो बचा है और न ही बचेगा क्योंकि जिस सूर्य के प्रकाश में सभी अपना जीवनयापन करते हुए , उसी से ऊर्जा प्राप्त करते हुए भगवा का विरोध करते हैं वह सूर्य भी भगवामय ही है तो बताओ भगवामय होने से बचा कौन ? मानवमात्र को इस तथ्य पर विचार करना चाहिए कि भगवा किसी विशेष धर्म का प्रतीक न हो करके सृष्टि एवं प्रकृति का प्रतीक होते हुए सृष्टि का ही मूल है | जिस प्रकार कुछ लोग अपने ही जन्मदाता माता पिता का विरोध करते हुए कृतघ्न हो जाते हैं उसी प्रकार भगवामय सृष्टि में पैदा होकर भगवा का विरोध करने वाले कृतघ्न ही कहे जा सकते हैं |*


*इस संसार में आने के बाद कोई भी भगवाकरण होने से बच नहीं सकता | हमें गर्व है कि हमारा जन्म सनातन में हुआ है जहाँ भगवा को धारण करके भगवान को पूजा जाता है |*

अगला लेख: मानस रोग :- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन अत्यनेत दुर्लभ है , इस सुंदर शरीर तो पाकरके मनुष्य के लिए कुछ भी करना असम्भव नहीं है | किसी भी कार्य में सफलता का सफल सूत्र है निरंतर अभ्यास | प्राय: लोग शिकायत करते हैं कि मन तो बहुत होता है कि सतसंग करें , सदाचरण करें परंतु मन उचट जाता है | ऐसे लोगों को स
28 दिसम्बर 2020
02 जनवरी 2021
*मानव जीवन में मनुष्य एक क्षण भी कर्म किए बिना नहीं रह सकता है क्योंकि यह सृष्टि ही कर्म प्रधान है | मनुष्य को जीवन में सफलता एवं असफलता प्राप्त होती रहती है जहां सफलता में लोग प्रसन्नता व्यक्त करते हैं वही असफलता मिलने पर दुखी हो जाया करते हैं और वह कार्य पुनः करने के लिए जल्दी तैयार नहीं होते | जी
02 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*इस धरा धाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के भोग भोगता हुआ पूर्ण आनंद की प्राप्ति करना चाहता है | मनुष्य को पूर्ण आनंद तभी प्राप्त हो सकता है जब उसका तन एवं मन दोनों ही स्वस्थ हों | मनुष्य इस धरा धाम पर आने के बाद अनेक प्रकार के रोगों से ग्रसित हो जाता है तब वह उसकी चिकित्सा किसी चिकित्सक स
28 दिसम्बर 2020
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन में सामाजिकता , भौतिकता एवं वैज्ञानिकता के विषय में अध्ययन करना जितना महत्वपूर्ण है , उससे कहीं महत्वपूर्ण है स्वाध्याय करना | नियमित स्वाध्याय जीवन की दिशा एवं दशा निर्धारित करते हुए मनुष्य को सद्मार्ग पर अग्रसारित करता है | स्वाध्याय का अर्थ है :- स्वयं क
28 दिसम्बर 2020
20 जनवरी 2021
*मानव जीवन बड़ा ही विचित्र है यहां समय-समय पर मनुष्य को सुख एवं दुख प्राप्त होते रहते हैं | किसी - किसी को ऐसा प्रतीत होता है कि जब से उसका जन्म हुआ तब से लेकर आज तक उसको दुख ही प्राप्त हुआ है ! ऐसा हो भी सकता है क्योंकि मनुष्य का इस संसार में यदि कोई सच्चा मित्र है तो वह दुख ही है क्योंकि यह दुख स
20 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*जब से इस धरा धाम पर मनुष्य का सृजन हुआ है तब से लेकर आज तक अनेकों प्रकार के मनुष्य इस धरती पर आये और चले गये | वैसे तो ईश्वर ने मानव मात्र को एक जैसा शरीर दिया है परंतु मनुष्य अपनी बुद्धि विवेक के अनुसार जीवन यापन करता है | ईश्वर का बनाया हुआ यह संसार बड़ा ही अद्भुत एवं रहस्यम है | यहाँ मनुष्य के म
10 जनवरी 2021
15 जनवरी 2021
*इस संसार में आने के बाद मनुष्य जीवन भर विभिन्न प्रकार की संपदाओं का संचय किया करता है | यह भौतिक संपदायें मनुष्य को भौतिक सुख तो प्रदान कर सकती हैं परंतु शायद वह सम्मान ना दिला पायें जो कि इस संसार से जामे के बाद भी मिलता रहता है | यह चमत्कार तभी हो सकता है जब मनुष्य का चरित्र श्रेष्ठ होता है , क्
15 जनवरी 2021
28 दिसम्बर 2020
*मानव जीवन में सामाजिकता , भौतिकता एवं वैज्ञानिकता के विषय में अध्ययन करना जितना महत्वपूर्ण है , उससे कहीं महत्वपूर्ण है स्वाध्याय करना | नियमित स्वाध्याय जीवन की दिशा एवं दशा निर्धारित करते हुए मनुष्य को सद्मार्ग पर अग्रसारित करता है | स्वाध्याय का अर्थ है :- स्वयं क
28 दिसम्बर 2020
02 जनवरी 2021
*परमपिता परमात्मा ने सुंदर सृष्टि की रचना करके मनुष्य को धरती पर भेजा , सुंदर शरीर के साथ सुंदर एवं तर्कशील बुद्धि प्रदान कर दी परंतु मनुष्य इस संसार में आकर के तरह-तरह के आडंबर (छद्मवेष) करता है | अपने वास्तविक स्वरूप का त्याग करके आडंबर बनाकर समाज के साथ छल करता है | वह शायद नहीं जानता कि आडंबर
02 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*मानव जीवन में प्रकृति का बहुत ही सराहनीय योगदान होता है | बिना प्रकृति के योगदान के इस धरती पर जीवन संभव ही नहीं है | यदि सूक्ष्मदृष्टि से देखा जाए तो प्रकृति का प्रत्येक कण मनुष्य के लिए एक उदाहरण प्रस्तुत करता है | प्रकृति के इन्हीं अंगों में एक महत्वपूर्ण एवं विशेष घटक है वृक्ष | वृक्ष का मानव
10 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*मानव जीवन में प्रकृति का बहुत ही सराहनीय योगदान होता है | बिना प्रकृति के योगदान के इस धरती पर जीवन संभव ही नहीं है | यदि सूक्ष्मदृष्टि से देखा जाए तो प्रकृति का प्रत्येक कण मनुष्य के लिए एक उदाहरण प्रस्तुत करता है | प्रकृति के इन्हीं अंगों में एक महत्वपूर्ण एवं विशेष घटक है वृक्ष | वृक्ष का मानव
10 जनवरी 2021
10 जनवरी 2021
*मानव जीवन बहुत ही दुर्लभ है , यह जीवन जितना ही सुखी एवं संपन्न दिखाई पड़ता है उससे कहीं अधिक इस जीवन में मनुष्य अनेक प्रकार के भय एवं चिंताओं से घिरा रहता है | जैसे :- स्वास्थ्य हानि की चिंता व भय , धन समाप्ति का भय , प्रिय जनों के वियोग का भय आदि | यह सब भय मनुष्य के मस्तिष्क में नकारात्मक भाव प्र
10 जनवरी 2021
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x